संवेदनशील मन ही बेहतर सृजन कर सकता है : देवल

वजूद का रंग और अन्य कहानियां का लोकार्पण बीकानेर।  पद्मश्री डॉ.चंद्रप्रकाश देवल ने कहा है कि भारत दुनिया की सबसे बड़ी कथा-पीठ है, वैसे तो कविता का जन्म भी भारत में ही हुआ है लेकिन कहानी की एक समृद्ध परंपरा है। इस परंपरा में जब एक कहानीकार 2017 में कलम उठाता है तो निश्चय ही …

continue reading