‘‘नशे ने बनाया चोर, बचा न रास्ता कोई और’’

-नशा मुक्ति दिवस पर नुक्कड़ नाटक के जरिए की जागरूकता श्रीगंगानगर। ‘मैं दीपक, कहने को कुल का दीपक हूं, हर और रोशनी करना मेरा फर्ज है। लेकिन मुझे सिगरेट की छोटी सी शुरूआत के साथ नशे की ऐसी लत लगी कि अब मैं हर प्रकार का नशा करता हूं। नशे की खातिर मैं पहले घर मैं चोरी करता था …

continue reading